Skip to main content

Holi Essay In Hindi for Class 10 | होली निबन्ध

होली वसंत ऋतु में मनाया जाने वाला एक महत्वपूर्ण भारतीय पर्व है। यह पर्व हिंदू पंचांग के अनुसार फाल्गुन मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है। रंगों का त्योहार कहा जाने वाला यह पर्व पारंपरिक रूप से दो दिन मनाया जाता है। पहले दिन को होलिका जलायी जाती है, जिसे होलिका दहन भी कहते है।

दूसरे दिन, जिसे धुरड्डी, धुलेंडी, धुरखेल या धूलिवंदन कहा जाता है, लोग एक दूसरे पर रंग, अबीर-गुलाल इत्यादि फेंकते हैं, ढोल बजा कर होली के गीत गाये जाते हैं, और घर-घर जा कर लोगों को रंग लगाया जाता है। ऐसा माना जाता है कि होली के दिन लोग पुरानी कटुता को भूल कर गले मिलते हैं और फिर से दोस्त बन जाते हैं। एक दूसरे को रंगने और गाने-बजाने का दौर दोपहर तक चलता है। इसके बाद स्नान कर के विश्राम करने के बाद नए कपड़े पहन कर शाम को लोग एक दूसरे के घर मिलने जाते हैं, गले मिलते हैं और मिठाइयाँ खिलाते हैं।

राग-रंग का यह लोकप्रिय पर्व वसंत का संदेशवाहक भी है। राग अर्थात संगीत और रंग तो इसके प्रमुख अंग हैं ही, पर इनको उत्कर्ष तक पहुँचाने वाली प्रकृति भी इस समय रंग-बिरंगे यौवन के साथ अपनी चरम अवस्था पर होती है। फाल्गुन माह में मनाए जाने के कारण इसे फाल्गुनी भी कहते हैं। होली का त्योहार वसंत पंचमी से ही आरंभ हो जाता है। उसी दिन पहली बार गुलाल उड़ाया जाता है। इस दिन से फाग और धमार का गाना प्रारंभ हो जाता है। खेतों में सरसों खिल उठती है। बाग-बगीचों में फूलों की आकर्षक छटा छा जाती है। पेड़-पौधे, पशु-पक्षी और मनुष्य सब उल्लास से परिपूर्ण हो जाते हैं। खेतों में गेहूँ की बालियाँ इठलाने लगती हैं। किसानों का ह्रदय ख़ुशी से नाच उठता है। बच्चे-बूढ़े सभी व्यक्ति सब कुछ संकोच और रूढ़ियाँ भूलकर ढोलक-झाँझ-मंजीरों की धुन के साथ नृत्य-संगीत व रंगों में डूब जाते हैं। चारों तरफ़ रंगों की फुहार फूट पड़ती है।

होली भारत का अत्यंत प्राचीन पर्व है जो होली, होलिका या होलाका नाम से मनाया जाता था। वसंत की ऋतु में हर्षोल्लास के साथ मनाए जाने के कारण इसे वसंतोत्सव और काम-महोत्सव भी कहा गया है।

राधा-श्याम गोप और गोपियो की होली इतिहासकारों का मानना है कि आर्यों में भी इस पर्व का प्रचलन था लेकिन अधिकतर यह पूर्वी भारत में ही मनाया जाता था। इस पर्व का वर्णन अनेक पुरातन धार्मिक पुस्तकों में मिलता है। इनमें प्रमुख हैं, जैमिनी के पूर्व मीमांसा-सूत्र और कथा गार्ह्य-सूत्र। नारद पुराण औऱ भविष्य पुराण जैसे पुराणों की प्राचीन हस्तलिपियों और ग्रंथों में भी इस पर्व का उल्लेख मिलता है। विंध्य क्षेत्र के रामगढ़ स्थान पर स्थित ईसा से ३०० वर्ष पुराने एक अभिलेख में भी इसका उल्लेख किया गया है। संस्कृत साहित्य में वसन्त ऋतु और वसन्तोत्सव अनेक कवियों के प्रिय विषय रहे हैं।

सुप्रसिद्ध मुस्लिम पर्यटक अलबरूनी ने भी अपने ऐतिहासिक यात्रा संस्मरण में होलिकोत्सव का वर्णन किया है। भारत के अनेक मुस्लिम कवियों ने अपनी रचनाओं में इस बात का उल्लेख किया है कि होलिकोत्सव केवल हिंदू ही नहीं मुसलमान भी मनाते हैं। सबसे प्रामाणिक इतिहास की तस्वीरें हैं मुगल काल की और इस काल में होली के किस्से उत्सुकता जगाने वाले हैं। अकबर का जोधाबाई के साथ तथा जहाँगीर का नूरजहाँ के साथ होली खेलने का वर्णन मिलता है। अलवर संग्रहालय के एक चित्र में जहाँगीर को होली खेलते हुए दिखाया गया है। शाहजहाँ के समय तक होली खेलने का मुग़लिया अंदाज़ ही बदल गया था। इतिहास में वर्णन है कि शाहजहाँ के ज़माने में होली को ईद-ए-गुलाबी या आब-ए-पाशी (रंगों की बौछार) कहा जाता था। अंतिम मुगल बादशाह बहादुर शाह ज़फ़र के बारे में प्रसिद्ध है कि होली पर उनके मंत्री उन्हें रंग लगाने जाया करते थे। मध्ययुगीन हिन्दी साहित्य में दर्शित कृष्ण की लीलाओं में भी होली का विस्तृत वर्णन मिलता है।

इसके अतिरिक्त प्राचीन चित्रों, भित्तिचित्रों और मंदिरों की दीवारों पर इस उत्सव के चित्र मिलते हैं। विजयनगर की राजधानी हंपी के १६वी शताब्दी के एक चित्रफलक पर होली का आनंददायक चित्र उकेरा गया है। इस चित्र में राजकुमारों और राजकुमारियों को दासियों सहित रंग और पिचकारी के साथ राज दम्पत्ति को होली के रंग में रंगते हुए दिखाया गया है।

होली के पर्व से अनेक कहानियाँ जुड़ी हुई हैं। इनमें से सबसे प्रसिद्ध कहानी है प्रह्लाद की। माना जाता है कि प्राचीन काल में हिरण्यकशिपु नाम का एक अत्यंत बलशाली असुर था। अपने बल के दर्प में वह स्वयं को ही ईश्वर मानने लगा था। उसने अपने राज्य में ईश्वर का नाम लेने पर ही पाबंदी लगा दी थी। हिरण्यकशिपु का पुत्र प्रह्लाद ईश्वर भक्त था। प्रह्लाद की ईश्वर भक्ति से क्रुद्ध होकर हिरण्यकशिपु ने उसे अनेक कठोर दंड दिए, परंतु उसने ईश्वर की भक्ति का मार्ग न छोड़ा। हिरण्यकशिपु की बहन होलिका को वरदान प्राप्त था कि वह आग में भस्म नहीं हो सकती। हिरण्यकशिपु ने आदेश दिया कि होलिका प्रह्लाद को गोद में लेकर आग में बैठे। आग में बैठने पर होलिका तो जल गई, पर प्रह्लाद बच गया। ईश्वर भक्त प्रह्लाद की याद में इस दिन होली जलाई जाती है। प्रतीक रूप से यह भी माना जता है कि प्रह्लाद का अर्थ आनन्द होता है। वैर और उत्पीड़न की प्रतीक होलिका (जलाने की लकड़ी) जलती है और प्रेम तथा उल्लास का प्रतीक प्रह्लाद (आनंद) अक्षुण्ण रहता है।

प्रह्लाद की कथा के अतिरिक्त यह पर्व राक्षसी ढुंढी, राधा कृष्ण के रास और कामदेव के पुनर्जन्म से भी जुड़ा हुआ है। कुछ लोगों का मानना है कि होली में रंग लगाकर, नाच-गाकर लोग शिव के गणों का वेश धारण करते हैं तथा शिव की बारात का दृश्य बनाते हैं। कुछ लोगों का यह भी मानना है कि भगवान श्रीकृष्ण ने इस दिन पूतना नामक राक्षसी का वध किया था। इसी खु़शी में गोपियों और ग्वालों ने रासलीला की और रंग खेला था।

भारत में होली का उत्सव अलग-अलग प्रदेशों में भिन्नता के साथ मनाया जाता है। ब्रज की होली आज भी सारे देश के आकर्षण का बिंदु होती है। बरसाने की लठमार होली काफ़ी प्रसिद्ध है। इसमें पुरुष महिलाओं पर रंग डालते हैं और महिलाएँ उन्हें लाठियों तथा कपड़े के बनाए गए कोड़ों से मारती हैं। इसी प्रकार मथुरा और वृंदावन में भी १५ दिनों तक होली का पर्व मनाया जाता है। कुमाऊँ की गीत बैठकी में शास्त्रीय संगीत की गोष्ठियाँ होती हैं। यह सब होली के कई दिनों पहले शुरू हो जाता है। हरियाणा की धुलंडी में भाभी द्वारा देवर को सताए जाने की प्रथा है। बंगाल की दोल जात्रा चैतन्य महाप्रभु के जन्मदिन के रूप में मनाई जाती है। जलूस निकलते हैं और गाना बजाना भी साथ रहता है। इसके अतिरिक्त महाराष्ट्र की रंग पंचमी में सूखा गुलाल खेलने, गोवा के शिमगो में जलूस निकालने के बाद सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन तथा पंजाब के होला मोहल्ला में सिक्खों द्वारा शक्ति प्रदर्शन की परंपरा है। तमिलनाडु की कमन पोडिगई मुख्य रूप से कामदेव की कथा पर आधारित वसंतोतसव है जबकि मणिपुर के याओसांग में योंगसांग उस नन्हीं झोंपड़ी का नाम है जो पूर्णिमा के दिन प्रत्येक नगर-ग्राम में नदी अथवा सरोवर के तट पर बनाई जाती है। दक्षिण गुजरात के आदिवासियों के लिए होली सबसे बड़ा पर्व है, छत्तीसगढ़ की होरी में लोक गीतों की अद्भुत परंपरा है और मध्यप्रदेश के मालवा अंचल के आदिवासी इलाकों में बेहद धूमधाम से मनाया जाता है भगोरिया, जो होली का ही एक रूप है। बिहार का फगुआ जम कर मौज मस्ती करने का पर्व है और नेपाल की होली में इस पर धार्मिक व सांस्कृतिक रंग दिखाई देता है। इसी प्रकार विभिन्न देशों में बसे प्रवासियों तथा धार्मिक संस्थाओं जैसे इस्कॉन या वृंदावन के बांके बिहारी मंदिर में अलग अलग प्रकार से होली के शृंगार व उत्सव मनाने की परंपरा है जिसमें अनेक समानताएँ और भिन्नताएँ हैं।

होली रंगों का त्योहार है, हँसी-खुशी का त्योहार है, लेकिन होली के भी अनेक रूप देखने को मिलते है। प्राकृतिक रंगों के स्थान पर रासायनिक रंगों का प्रचलन, भांग-ठंडाई की जगह नशेबाजी और लोक संगीत की जगह फ़िल्मी गानों का प्रचलन इसके कुछ आधुनिक रूप हैं। लेकिन इससे होली पर गाए-बजाए जाने वाले ढोल, मंजीरों, फाग, धमार, चैती और ठुमरी की शान में कमी नहीं आती। अनेक लोग ऐसे हैं जो पारंपरिक संगीत की समझ रखते हैं और पर्यावरण के प्रति सचेत हैं। इस प्रकार के लोग और संस्थाएँ चंदन, गुलाबजल, टेसू के फूलों से बना हुआ रंग तथा प्राकृतिक रंगों से होली खेलने की परंपरा को बनाए हुए हैं, साथ ही इसके विकास में महत्वपूर्ण योगदान भी दे रहे हैं। रासायनिक रंगों के कुप्रभावों की जानकारी होने के बाद बहुत से लोग स्वयं ही प्राकृतिक रंगों की ओर लौट रहे हैं। होली की लोकप्रियता का विकसित होता हुआ अंतर्राष्ट्रीय रूप भी आकार लेने लगा है। बाज़ार में इसकी उपयोगिता का अंदाज़ इस साल होली के अवसर पर एक अंतर्राष्ट्रीय प्रतिष्ठान केन्ज़ोआमूर द्वारा जारी किए गए नए इत्र होली है से लगाया जा सकता है।

Read this essay in English

Comments

Weekly Popular

मेरी यादगार यात्रा पर निबंध | Essay on My Memorable Tour in Hindi

यात्रा का अपना एक सुखद अनुभव होता है। हर यात्रा अपने में कई यादें समेटे होती है पर कुछ बहोत यादगार होती हैं । गर्मी की छुट्टियों में अधिकतर लोग घूमने जाते हैं और इस मौसम में पर्वतों की यात्रा अत्यधिक सुखद होती है। हमारी पहली पर्वतीय यात्रा पिछले वर्ष गर्मी की छुट्टियों में हुई जब पिताजी के पुराने मित्र ने नैनीताल में अपने आवास पे एक समारोह रखा और पिताजी को आमंत्रित करने के साथ साथ ज़रूर आने का आग्रह भी किया। पिताजी ने इस आग्रह का सम्मान करते हुए समारोह में जाने के लिए और साथ साथ नैनीताल घूमने के लिए पांच दिन की योजना बनायी। हमने 20 मई को नैनीताल के लिए रेल पकड़ी और अगले दिन सुबह 10 बजे वहां पहुँच गए। स्टेशन पे पिताजी के मित्र हमें लेने आये हुए थे। हम उनके साथ उनके घर गए। उन्होंने पिताजी की योजना की सराहना करते हुए उन्हें आने के लिए धन्यवाद कहा और हमें नैनीताल घुमाने की जिम्मेदारी अपने ड्राइवर को सौंप दी। क्योंकि समारोह तीन दिन बाद था तो हम नैनीताल घूमने निकल गए। नैनीताल के रास्ते बहुत टेड़े मेढ़े थे और रास्ते के दोनों ओर घाटियों का मनमोहक दृश्य था। कहीं ये घाटियां अत्यंत सुन्दर थीं औ…

Question Answer of 'Daffodils' | English Literature

Question 1: Describe in your own words the poet's feelings when he sees the host of golden?Answer 1: The poet was thrilled to see a host of golden daffodils by the side of the lake under the trees moving their head in a joyful dance . They seemed to be dancing like a human being expressing their energy and joy. When the poet saw the flowers, his imagination traveled to another world to find a comparison. He was reminded of the stars twinkling in the milky way at night . The long line of the daffodils flowers bore comparison with the bright stars seen across the night sky Question 2: Why does the poet say I gazed and gazed but a little thought / what wealth that show to me had brought? Answer 2: the poet was alone full stop he was moving about aimlessly over the high valleys and hills watching the beautiful scenes of nature full stop suddenly he saw a great number of golden coloured flowers by the side of the lake under the trees moving their heads in joyful dance . Waves in the l…

If I were a Cloud Essay In Hindi | यदि मै बादल होता निबंध

मैने कल रात एक सपना देखा, कि मैं एक बादल था। मैं वाष्प से बना था और मुझ में पानी था। मैं पानी से बोझिल था, और बौछार करने के लिए इंतजार कर रहा था । मै अपने आपको किसी भी आकार भें ढाल सकता था । थोड़ी ही देर में मै कुत्ता बन गया जो मुंह मैं एक हड्डी लिया हुआ था । बच्चे मेरी तरफ उंगली उठाकर कह रहे थे कि देखो बादल कुत्ता जैसा दिखता है। दूसरे दिन मैं अपने आपको उपयोगी बना दिया। मैं ऐसी जगह गया जहां पर लोग सूखे से फैली भुखमरी से मर रहे थे । मैने वहां के लोगों में क्रोध और दुःख दोनों देखा। लोग मेरे इंतजार में प्रार्थना कर रहे थे। थोड़ी ही देर में मैं वहां छा गया और अपने आपको पूरी तरह खोल दिया | वहां की जमीन को मैने बारिश से सराबोर कर दिया । लोग बहुत खुश हो गए। वो ऊपरवाले की प्रार्थना करने लगे और खुशी से नृत्य करने लगे । दूसरे दिन मैं ऐसी जगह था , जहां चारो तरफ पानी ही पानी था । लोगों को मैं डूबते हुए देख रहा था । मै सोचा शायद मेरे मां बाप ने ऐसा किया था । क्योंकि के इन मनुष्यों के प्रकृति के विरुद्ध कार्यो से बहुत नाराज थे। मै चुपचाप उन्हें डूबते हुए और उन्हें उनके पापों के कारण भु…

In the Bazaars of Hyderabad Question Answer for class 8 English Literature

-Sarojini Naidu.
Reference to The Context (1) What do you sell, O ye Merchants? Richly your wares are displayed.Q ( a ):    Where are the merchants? What are they doing ? Ans. :    The merchants were in the Bazaars of Hyderabad.They were selling costly goods.
Back To TopQ ( b ):    Name the goods on sell in this patricular shop.Describe their colourful appearance. Ans. :    The goods on sell were turban, tunics, mirrors and daggers. The turbans were red and silver colour, tunics were made of shining purple brocade , mirrors were framed with yellow amber and the daggers had handles of jade.
Back To TopQ ( c ):    Give the meaning of mirrors with panels of amber. Ans. :    The mirrors sold by the merchants in the bazaar were framed with a yellow colour stone.
Back To TopQ ( d ):    Who are likely to buy the tunics of purple brocade and daggers with handles of jade? Ans. :    Rich mens of Hyderabad like the Nizams and the noble were to buy these costly items.
Back To Top(2) What do …

Question Answers 'The Happy Prince' - English Literature | Reference to Context

Question 1: Why is the prince called happy? Was he really happy ? Question 2: Why does the Happy Prince send a Ruby for the seamstress ?
Question 3: For whom does the Prince give away his eyes and why ? Question 4 : Why did the Swallow not leave the Prince and go to Egypt?
Question 5: Why does God consider the leaden heart and the dead bird as the two most precious things in the city?
Answer 1 >>
Answer 2>>
Answer 3>>
Answer 4>>
Answer >>
Story in Video >>


Story in video
Reference to the context 1: "I hope the town had made perfections."
Question 1: Who said these words to whom and 5?
Answer >>
Question 2: Where does the Swallow find his shelter ?
Answer >>
Question 3 : Why does the Swallow say that he had a golden bedroom ?
Answer >>
Question 4: What happened when the Swallow prepared to go to sleep ?
Answer >>
Reference to the context 2: " Dear little swallow, you tell me of marvelous things, but more marvelous…

List of Hindi Difficult Words

Learning Hindi is easy if we are going in right way. Many of us are struggling for Hindi learning. We already have created Youtube videos for learning hindi . However We need practice to write correctly. This is the list of Hindi words in which a student of class 5 have created mistakes are. This is a tested list of words. I think many students do mistakes while writing these Hindi words. I suggest you to practice these words and post your mistakes if possible. There are Videos at the end for learning Hindi
उचित 
पछताएगा
न्याय
गिर
बकरी
पेचिश
पीलिया
त्वचा
योग्य
मानव
इकाई
व्यवस्थित
वर्णमाला
उच्चारण
व्यवस्थापना
उच्चारित 
इकाईयां
तुम्हारे 
विवाह 
धृष्टता
दूँगी
पक्षी
विशेष
समाज
ब्राह्मण
पहरा
कार्य
प्राप्त
खरीद

शीतल
जादू
स्वच्छ
वायु
बीमारी
पढ़ने
अकाल
समस्याए 
प्रयोग
अविष्कार
देवदार
रसायनों
आत्मकथा
परिशान
बचाया
चंगुल
कूदना
भावना
सहभागिता
पढ़ाई
निगरानी
चिंता
मौखिक
संस्कृत
इसलिए
देवनागरी
लिपि
उचित
विमाला
ओतिकड़म
चमत्कार
उपाय
सरोवर

How I Spent My Summer Vacation Hindi Essay for Class 1, 2

गर्मी का मौसम भारत में मई और जून के महीने में आता है । हम इस मौसम में बहुत असहज महसूस  करते हैं।  क्योंकि गर्मी का मौसम  बहुत आसान मौसम नहीं है। इस गर्म से छुटकारा पाने के लिए मैने बहुत पहले से एक शांत जगह पर गर्मी की छुट्टी बिताने की योजना बनाई थी । हम अपने परिवार के साथ कश्मीर चले गये । गर्मी की छुट्टी के दूसरे ही दिन हमने अपना शहर छोड़ दिया । पहले हम एसी टिकट के साथ लंबे समय तक ट्रेन यात्रा का आनंद लिए ।यह कश्मीर की राजधानी तक पहुंचने के लिए बहुत अच्छी यात्रा थी।जब हम वहाँ पर उतरे तब वहाँ का मौसम अछा नही था । हमने देखा वहाँ का मौसम एक दम बदलने लगा ।वहाँ गर्मी का कोई संकेत नही था । जैसे वहाँ हम उतरे तो इन तस्वीरों को देख कर यह महसूस की वास्तव में कश्मीर एक जन्नत है। कश्मीर देखना मेरे बचपन का एक सपना था और जो आज सच हुआ। हम एक होटल ले लिए जो डल झील की नाव पर था । डल झील पर नौकाविहार बहुत अनंददायक था।अन्य अंक भी लिखा जा सकता है। नीचे देखें।बच्चों को गर्मियों की छुट्टियों में आराम मिलता है। अध्ययन का दबाव समाप्त हो जाता है और मन को एक अलग खुशी का अनुभव होता है ।निष्कर…

Father's Help English Literature Question and Answer

By:R.K. Narayan
1. At nine-thirty, when he ought to have been shouting............Q ( A):    What would Swami usually do during prayer time at school? Q ( B ):    What,According to father,is the cause of Swami's headache? Q ( C ):    Is Swami honest in his words? When he give the excuse. Q ( D ):    What was usual activity of Swami mentioned in the first para. Q ( E ):    Why did Swami change his tactics while giving excuse in front of his father? Ans. A:    Swami used to shout during prayer time at school.
Back To TopAns.B :    According to father playing too much on weekends is the cause of Swami's headache.
Back To TopAns.C :    No Swamy is not honest in his word. Swamy changed his tactics as per the situation.
Back To TopAns. D :    Swami used to shout out in the School Prayer Hall during prayer time. This was the usual activity of Swami in the school. Perhaps he doesn't like the system of continuous teaching period after period. And also it may be that he us…