Skip to main content

Summary Of the Poem 'Be The Best' | By Douglas Malloch

By - Douglas Malloch

The poem " Be the best" teaches us a very important lesson of our life. The title is sufficient for anyone to understand the concept of the poem. The poet Douglas Malloch wants to tell us that whatever you want to be or whatever you can be ,just be the best one in that field.

The poet starts the poem by giving examples of nature. He says if you are not able to be pine on the top of the hill then just try to be the scrub which are little elevated grasses but you must be the best scrub by the side of the stream. For example if you can't be the boss of an office then just you try to be a worker but be the best worker of that office. The poet again teaches us to be the bush if we can't be strong like a tree. If also we can't be a bush then a bit of little grass.

Douglas Malloch says us to be the happiest . He gives example of music. He says that if we can't be the good music then be the cheerful bass in the lake. All of us cannot be the captain because the crew field is also waiting for someone. If all are captain by themselves then every thing just would become a mess.

There is some work for everyone to do in this world. There is no one who has no work. There is a big work to do but the people to execute on it is less The job which is to be completed is not very far away. If we cannot be the highway but we can be the trail. If we are not be able to be a burning sun then we can be the star. The size doesn't matter of winning and losing , what matter is the best whatever you are.

Comments

  1. Replies
    1. OK it's all right. We are working hard to make you happy and successful in regards of education .

      Delete
  2. THNX..ITS AVERAGE NOT THAT GOOD

    ReplyDelete
  3. its not music... its a muskie which is a type of fish

    ReplyDelete

Post a Comment

Weekly Popular

मेरी यादगार यात्रा पर निबंध | Essay on My Memorable Tour in Hindi

यात्रा का अपना एक सुखद अनुभव होता है। हर यात्रा अपने में कई यादें समेटे होती है पर कुछ बहोत यादगार होती हैं । गर्मी की छुट्टियों में अधिकतर लोग घूमने जाते हैं और इस मौसम में पर्वतों की यात्रा अत्यधिक सुखद होती है। हमारी पहली पर्वतीय यात्रा पिछले वर्ष गर्मी की छुट्टियों में हुई जब पिताजी के पुराने मित्र ने नैनीताल में अपने आवास पे एक समारोह रखा और पिताजी को आमंत्रित करने के साथ साथ ज़रूर आने का आग्रह भी किया। पिताजी ने इस आग्रह का सम्मान करते हुए समारोह में जाने के लिए और साथ साथ नैनीताल घूमने के लिए पांच दिन की योजना बनायी। हमने 20 मई को नैनीताल के लिए रेल पकड़ी और अगले दिन सुबह 10 बजे वहां पहुँच गए। स्टेशन पे पिताजी के मित्र हमें लेने आये हुए थे। हम उनके साथ उनके घर गए। उन्होंने पिताजी की योजना की सराहना करते हुए उन्हें आने के लिए धन्यवाद कहा और हमें नैनीताल घुमाने की जिम्मेदारी अपने ड्राइवर को सौंप दी। क्योंकि समारोह तीन दिन बाद था तो हम नैनीताल घूमने निकल गए। नैनीताल के रास्ते बहुत टेड़े मेढ़े थे और रास्ते के दोनों ओर घाटियों का मनमोहक दृश्य था। कहीं ये घाटियां अत्यंत सुन्दर थीं औ…

How I Spent My Summer Vacation Hindi Essay for Class 1, 2

गर्मी का मौसम भारत में मई और जून के महीने में आता है । हम इस मौसम में बहुत असहज महसूस  करते हैं।  क्योंकि गर्मी का मौसम  बहुत आसान मौसम नहीं है। इस गर्म से छुटकारा पाने के लिए मैने बहुत पहले से एक शांत जगह पर गर्मी की छुट्टी बिताने की योजना बनाई थी । हम अपने परिवार के साथ कश्मीर चले गये । गर्मी की छुट्टी के दूसरे ही दिन हमने अपना शहर छोड़ दिया । पहले हम एसी टिकट के साथ लंबे समय तक ट्रेन यात्रा का आनंद लिए ।यह कश्मीर की राजधानी तक पहुंचने के लिए बहुत अच्छी यात्रा थी।जब हम वहाँ पर उतरे तब वहाँ का मौसम अछा नही था । हमने देखा वहाँ का मौसम एक दम बदलने लगा ।वहाँ गर्मी का कोई संकेत नही था । जैसे वहाँ हम उतरे तो इन तस्वीरों को देख कर यह महसूस की वास्तव में कश्मीर एक जन्नत है। कश्मीर देखना मेरे बचपन का एक सपना था और जो आज सच हुआ। हम एक होटल ले लिए जो डल झील की नाव पर था । डल झील पर नौकाविहार बहुत अनंददायक था।अन्य अंक भी लिखा जा सकता है। नीचे देखें।बच्चों को गर्मियों की छुट्टियों में आराम मिलता है। अध्ययन का दबाव समाप्त हो जाता है और मन को एक अलग खुशी का अनुभव होता है ।निष्कर…

Garmiyon Ki Chhuttiyon Ka Maja Essay For class 3 In Hindi | गर्मियों की छुट्टियों का मजा पर निबंध

१. गर्मियों की छुट्टियाँ मुझे बहुतपसंद है|२. ये हमारी वार्षिक परीक्षा के बाद आती है|३. हम इसमे नानी के घर जाते है| नानी हमे कहानी सुनाती है|४. गर्मियों की छुट्टियों मे आइस क्रीम खाते है|५. इसमे हम अपने दोस्तो के साथ केरम , विडिया गेम,साँप सीढ़ी और अन्य कई सारे खेल खेलते है|६. हम परिवार के साथ हर साल हील स्टेशन जाते है| जहा हम नयी नयी जगह घूमते है , शॉपिंग करते है| फॅमिली फोटो लेते है|७. गर्मी की छुट्टियों मे हम हॉबी क्लास भी ज्वाइन करते है| जेसे :- तैराकी(स्वीमिंग), कला शिक्षा (आर्ट क्लास), इत्यादि| ८. गर्मी की छुट्टियों मैं देर तक सोने का मज़ा भी बहुत अलग होता है| रोज़ प्रातः जल्दी उठकर स्कूल नही जाना होता है|९.माँ भी बहुत सारे पकवान बना कर खिलती है| १०. शाम को हम दादा-दादी के साथ टहलने बगीचे मे जाते है और झूलो का आनंद लेते है| ११. हम इस बार गर्मी की छुट्टियो मैं घर के बगीचे मैं पौधे भी लगाएगे|१२. छुट्टियों मैं बिद्द्यालय से मिला होम वर्क हम सभी दोस्त साथ मिलकर करते है|१३. इस बार की छुट्टियो मैं मेरे घर पर चिड़िया ने बच्चे दिए थे, हम उनको रोज़ दाना डालते थे|१४. मेरी बहन का जन्मदिन भ…

Question Answer of 'Daffodils' | English Literature

Question 1: Describe in your own words the poet's feelings when he sees the host of golden?Answer 1: The poet was thrilled to see a host of golden daffodils by the side of the lake under the trees moving their head in a joyful dance . They seemed to be dancing like a human being expressing their energy and joy. When the poet saw the flowers, his imagination traveled to another world to find a comparison. He was reminded of the stars twinkling in the milky way at night . The long line of the daffodils flowers bore comparison with the bright stars seen across the night sky Question 2: Why does the poet say I gazed and gazed but a little thought / what wealth that show to me had brought? Answer 2: the poet was alone full stop he was moving about aimlessly over the high valleys and hills watching the beautiful scenes of nature full stop suddenly he saw a great number of golden coloured flowers by the side of the lake under the trees moving their heads in joyful dance . Waves in the l…

Featured Post

Paraphrase of The Merchant Of Venice ACT 1 SCENE 1 Class 9,10

ACT 1 SCENE 1 [VENICE, A STREET]
1."Line 1 to 7 speech of Antonio" In truth I know not why Iam so sad.It makes me tired.But I still don't know how I have it,found it or came by it.What it is made up of and what os its origin.This sadness makes me so absent-minded that I do not know who Iam. 2.Line 8to 14speech of Salarino
You are stressed because you are worried about your rich ships (argosies ) which are sailing stately like gentlemen and important citizens on sea surface.Or as it is procesion of the sea to surpass the small commercial boats by these argosies.The small ships move up and down as if they were showing respect ,As if they speed fast by them with their canvas sailing.3.Line 15 to 22 speech of Salanio
Sir believe me If I had such a business operation the better part of my affection would be sailing at the sea.I should be holding up the grass blade to see in which direction the wind is blowing.I would be looking for ports , harbors and channels and every which w…