Skip to main content

Essay If there would be No Animal on the Earth in Hindi | क्या होता यदि पृथ्वी पर जानवर नहीं होते

पशुओं का मानव जीवन में हमेशा विशेष प्रभाव रहा है। एक पशु मनुष्य की हर ज़रूरत को पूरा करता है, उसका दोस्त बनता है, उसका भोजन बनता है।पशु विभिन्न प्रकार के वस्त्र बनाने के भी प्रयोग में आता है। क्या आप इस संसार की कल्पना जानवरों के बिना कर सकते हैं? नहीं कर सकते। ऐसा मेरा अनुभव है । पशु-पक्षियों का भोजन श्रंखला को नियमित रखने मे सबसे महत्वपूर्ण योगदान है। आजकल तकनीकी विकास बढ़ रहा है, तरह - तरह की मशीनें बनाई जा रही हैं लेकिन जब यह सब नहीं था तब पशु ही ढुलाई का कार्य करते थे , और आज भी बहुत दुर्गम स्थानों पर ढुलाई का कम करतें हैं । किसान बैलों से खेत जोतते थे । आज भी जोतते हैं । अगर मित्रता की बात करें तो एक जानवर ही मनुष्य का सबसे वफादार मित्र होता है ।

Essay on If there would be No Animal on the Earth

वह इंसानो की तरह आपको कभी हानि नहीं पहुंचा सकते हैं। प्रकृति में हर एक प्राणी का महत्व है। यह संसार जानवरों के बिना अधूरा है। अगर यह न हो तो हमारा जीवन कठिन हो जाएगा । अगर दुधारू पशु न हो तो हमें पौष्टिक भोजन नहीं मिलता । रेगिस्तान इलाकों में मनुष्य का रहना दूभर हो जाएगा, क्योंकि ऊँट ही रेगिस्तान में आसानी से चल सकता है । चिड़ियों की चह चह हट हमारे सुबह को अनोखा बनती हैं। चिड़ियाँ और पशु कृषि मे अपार मदद करतें हैं ।

इसी प्रकार कुत्ते भी हमारे अच्छे मित्र होते हैं। यदि ठीक से देखें तो हम यह पाएँगे की कुत्ते हमारे मुहल्ले को गंदगी से मुक्ति दिलाटें हैं । यह देखने का नज़रिया है, जो हम यह बात बता पा रहें हैं ठंडे पहाड़ी इलाकों में रेनडियर पशु मनुष्य के जीवन के लिए अत्यंत आवश्यक होता है। मनुष्य ठन्ढे क्षेत्र में इसलिए जिंदा है क्योंकि जानवर का माँस उपलब्ध है. हम अपने रोज मर्रा की जिंदगी मे ऐसा बहुत समान का उपयोग करतें हैं वी जानवरों के खाल या हड्डियों से बने होते हैं। आज के आधुनिक युग में पहुंचने में इन पशुओं का बहुत योगदान है।पशु हमारे वातावरण का अभिन्न अंग है ।

You may also Like These !

Comments



Weekly Popular

Question Answer of 'Daffodils' | English Literature