Skip to main content

Keeping Pressure On children for Achieving high Ambition is Right or Wrong उच्चे लक्ष्य को पाने के लिए माता पिता द्वारा बच्चों पर डाला जाने वाला दबाव उचित है या अनुचित है।

लक्ष्य की उंचाई सफलता को गति और उर्जा प्रदान करती है। परन्तु ऐसा लक्ष्य जो किसी बच्चे की क्षमता से अत्यधिक है । वह बच्चे को मानसिक रोगी या पागल बनाता है । और कभी कभी बच्चे आत्महत्या का शिकार हो जाते हैं। इसलिए मेरा मानना है कि इस तरह का दबाव अनुचित है। जब जीवन ही नहीं रहेगा तो जीवन में लक्ष्य का कोई मतलब नहीं है।

जब लक्ष्य बच्चे की क्षमता की परिधि के बाहर होता है , तो वह लक्ष्य उसके लिए बोझ बन जाता है । चुंकि बच्चे अपने माता पिता को खुश देखना चाहते हैं, इसलिए वे झूठ बोलने लगते हैं। जैसे मैने याद कर लिया, होमवर्क कर लिया , मै नकल नहीं करता हूं , मै 90% से जादा अंक प्राप्त करूंगा इत्यादि। इस दबाव में वे अपने अन्दर छुपी मेधा को पररव नहीं पाते । और माता पिता के सोंच के ढांचे में फंस जाते हैं। और नौकरी की खोज में दर दर भटकते रहते हैं। आज के इस प्रतिस्पर्धा के कारण दूसरेआम बच्चे थोड़ा तकनीकी सीखकर रोजी रोटी की दौड़ में इस बच्चे से आगे निकल जाते हैं। और सबसे बड़ी बात यह है कि वे निम्न और कमजोर मानसिकता के शिकार नहीं बनते। मेरे अनुसार ऊंचे लक्ष्य को अपने बच्चे की क्षमता के अनुसार निश्चित करना चाहिए और दबाव न डालकर बच्चों की सहायता करनी चाहिए। उनसे कनेक्ट होना चाहिए। यही मन्त्र उनके जीवन को सफल बना सकता है।

Keeping Pressure On children for Achieving high Ambition is Right or Wrong

माता पिता को मानसिक दबाव न देकर बच्चे से उसके समस्याओं के बारे में बात करने का प्रयास करना चाहिए । ताकि वह समझ सके कि आखिर उनका बच्चा क्यों नहीं अच्छे अंक प्राप्त नहीं कर पा है। ऐसा करने से बच्चे की कमजोरी का पता चल जाता है। जिसपर प्रयास कर के ठीक किया जा सकता है। पढ़ाई की क्रिया के समीप ऐसी बहुत सी बातें होती है, जो बच्चों को सिखाना पड़ता है। जैसे अनुशासन, खुश रहना , स्वस्थ रहने की कला, सामाजिकता पढ़ना -सुनना -लिखने के वृत्त की महत्ता इत्यादि | परीक्षा देने के तरीके सिखाना भी जरूरी है। कुल मिलाकर कहने का तात्पर्य यह है, कि बच्चे के स्थान पर अपने आप को रखकर हमें उसकी परेशानियों को समझना चाहिए। और उसे दूर करने का प्रयास करना चाहिए। अपने बच्चों को अनुशासन उत्साहित करना बहुत महत्वपूर्ण है। इससे वे अपने माता-पिता को सबसे अच्छा मित्र समझने लगते हैं। और अपनी जिम्मेदारी निभाने में अधिक सक्षम बन जाते हैं।

You may also Like These !

Comments





Popular posts from this blog

मोर पर निबंध | Essay on Peacock for Class 6

हमारा राष्ट्रीय पक्षी मोर है। मोर दिखने में बहुत सुन्दर होता है। उसके शरीर का हर एक अंग उसकी सुंदरता पर चार चाँद लगाता है। उसका शरीर नीले रंग का होता है। और पंखों में ना जाने कितने रंग होते हैं। जैसे हरा नीला गुलाबी बैगनी।  उसके पंख बड़े -बड़े होते हैं। और जब मोर अपना पंख खोलता है तो वह और भी सुन्दर लगता है। उसकी आँखे लम्बी और खूबसूरत होती हैं। यह कार्तिक भगवान का वाहन भी है।  यह कृष्ण भगवान का एक रूप भी है। जब मोर अपने पंख खोलता है तो वह एक अदभुत नजारा होता है।  हमारे देश में मोर रांची बिहार मथुरा वाराणसी और राजस्थान के इलाकों में ज्यादा संख्या में पाये जाते हैं। इनका शरीर बड़ा और भारी होता है।  जिसके कारण यह ज्यादा ऊंचाई तक उड़ नहीं पाते हैं।  यह दान बीज आदि खातें हैं।  कहा जाता है की यह सांप भी खाता है। मगर इनपे सांप के विष का कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। यह बहुत शान से राजा की तरह चलता है। इनकी खुबिंया तो बहुत हैं जिनमे से कुछ नीचे लिखा हुआ है। यह बारिश होने का अंदाजा लगा लेता है।  उसके तन का एक बहुत महत्वपूर्ण अंग जो की पंख है। हिन्दू संस्कृति में माना जाता है की इसके पंख घर में रखने स…

My Family Essay In Hindi (pointwise) | Mera Parivar Essay in Hindi

अध्यापकों के अत्याचार से पूरे परिवार वाले थोड़ी सी परेशानी में आ जाते हैं । बच्चों को निबंद के बारे में यदि थोडा समझा देते और उसके बाद में कोई भी निबन्ध का विषय देते तो ठीक रहता । इस तरह से हर दिन एक नया निबन्ध कैसे बच्चा  लिखेगा ।इस तरह का discussion बहुत से अभिभावकों  द्वारा सुना गया है । उनके इसी परेशानी को ध्यान में रखते हुए यह website  बनाया गया है । लेकिन आप से मेरा अनुरोध है की पहले अपने बच्चों से अपने से लिखने को कहिये. । ताकि आप उसकी कमजोरी  को समझ सके । 1. मेरा एक बहुत सुखी परिवार है|2. मेरे पिता का नाम राहुल वेंकटेश& है|3.वह  एक इंजीनियर है|4. मेरी मां का नाम सीमा वेंकटेश है|5. वह एक घर में पत्नी है|6. मेरी  एक बड़ी बहन है|7. मैं अपने दादा - दादी के साथ खेलता हूँ |8. मेरे पापा मुझे गणित , विज्ञान और कंप्यूटर पढ़ते हैं |9. मेरी माँ और मेरी दादी मेरे साथ कभी कभी खेलती हैं|10. मेरी माँ अच्छे अच्छे  खाने बनाती हैं |11. मै  अपने दादा के साथ क्रिकेट खेलता हूँ |12. हम सब मिलकर कभी कभी सिनेमा देखने जाते हैं |13. मेरे दादा दादी मुझे बहुत प्यार करते है |14. हम लोगों का एक छोटा सा…

Question Answer of 'Daffodils' | English Literature

By William Wordsworth (1770-1850)
Question 1: Describe in your own words the poet's feelings when he sees the host of golden?
Question 2: Why does the poet say I gazed and gazed but a little thought / what wealth that show to me had brought? Answer 1>>
Answer 2>>
Watch recitation video
Reference to The Context 1 :1:" I wondered lonely vales and hills. "
Question a: Who wonder like a lonely cloud and wear ?
Answer>>
Question b: Who does he come across while wondering ?
Answer>>
Question c: where where the daffodils and what where they doing ?
Answer>>

Reference to The Context 2 :
2:" Continuous as the stars....... milkyway. "
Question a: What is been compare to the stars and why ?
Answer>>
Question b: Whom did the daffodils out do and how ?
Answer>>
Question c: About which jocund company is the poet referring to ?
Answer>>
Question d: What happened to the narrator after the change got ever in his life?
Answer>>
Reference…